रीयल कश्‍मीर की जीत में दिखी घाटी की ‘रीयल तस्वीर’

0
206
Real Kashmir Match
Photo Credit: I-League Official Fanpage

श्रीनगर के टीआरसी टर्फ ग्राउंड पर गुरुवार को इंडियन लीग का मैच खेला गया, जहां कश्‍मीर की टीम ने अपनी ही जमीन पर शानदार जीत दर्ज की। रीयल कश्‍मीर ने चेन्नई सिटी को 2-1 से हराया। रीयल कश्‍मीर की यह जीत महज़ मैदान तक सीमित नहीं रही, बल्कि इस मैच ने कश्‍मीर से लेकर कन्याकुमारी तक को घाटी की रीयल तस्वीर दिखा दी।

जी हां घाटी में खेला गया यह फुटबॉल मैच और उसमें उमड़ी युवाओं की भीड़ इस बात का साफ संकेत है कि अब घाटी की स्थितियां तेज़ी से सामान्य हो रही हैं। अनुच्छेद 370 हटाये जाने के बाद यह घाटी में खेल का सबसे बड़ा आयोजन था, जो पूर्ण रूप से सफल रहा। खास बात यह है कि रीयल कश्‍मीर की आई-लीग में यह पहली जीत है। इससे पहले कश्‍मीर की टीम ने दो मैच खेले थे, दोनों ड्रॉ रहे थे।

#ShePower 💪🏻 #HeroILeague 🏆 #IndianFootball ⚽️ #LeagueForAll 🤝 #RKFCCCFC ⚔️

I-League द्वारा इस दिन पोस्ट की गई गुरुवार, 26 दिसंबर 2019

स्कूलों में बढ़ने लगी छात्रों की उपस्थिति

जम्मू-कश्‍मीर में बहुत तेज़ी से स्थितियां सामान्य होती नज़र आ रही हैं। बाज़ार खुलने शुरू हो गये, अस्पताल व सरकारी दफ्तरों में भी कामकाज शुरू हो गया और तो और स्कूलों की कक्षाओं में भी बच्चे नज़र आने लगे हैं। सुरक्षा के मद्देनज़र ये बच्चे भले ही स्कूल ड्रेस की जगह साधारण कपड़े पहन कर आते हैं, लेकिन इनकी उपस्थिति अब निरंतर बढ़ रही है।

स्थितियों के सामान्य होने का एक और बड़ा प्रमाण जम्मू-कश्‍मीर से अर्धसैनिक बलों के करीब 7000 सैनिकों को घाटी से वापस बुलाया जाना भी है। 24 दिसंबर को केंद्रीय गृह मंत्रालय ने घाटी की स्थितियों पर समीक्षा बैठक के बाद अर्धसैनिक बलों की 72 कंपनियों को घाटी से हटाने का आदेश दे दिया। सीआरपीएफ, बीएसएफ, आईटीबीपी, सीआईएसएफ और सशस्त्र सीमा बल के जवान शामिल हैं, जिन्‍हें अनुच्छेद 370 के हटाये जाने के बाद से तैनात किया गया था। अब धीरे-धीरे इन सुरक्षा बलों को अपने-अपने राज्यों में वापस भेजा जा रहा है।

घाटी में फिल्में बनाने की अपील 

जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल जी. सी. मुर्मू के सलाहकार फारुक खान ने कश्मीर को पर्यटकों के लिए स्वर्ग और सुरक्षित स्थल बताते हुए बॉलीवुड से अनुरोध किया कि वह कश्मीर के साथ अपने रूमान को और एक मौका दें। 11वें मोहम्मद रफी पुरस्कार समारोह से इतर स्पंदन आर्ट्स की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में मंगलवार को खान ने कहा था कि जम्मू-कश्मीर को लेकर एक ‘नकारात्मक’ छवि बना दी गई है।

उन्होंने कहा, “यह आतंकवाद का स्थल नहीं है, बल्कि पर्यटकों के लिए स्वर्ग है। केन्द्र शासित प्रदेश में जमीनी हकीकत बाहरी दुनिया को बतायी जा रही बातों से एकदम अलग है। जमीनी हकीकत देखने के लिए आपको उस जगह पर आना होगा और मुझे यकीन है कि आप उसे देश के अन्य हिस्सों की तरह ही शांतिपूर्ण पाएंगे।”

New Delhi | PBNS Bureau