बजट से पहले हलवा सेरेमनी से जुड़े तथ्‍य

0
24
halwa ceremoney

आदिकाल से ही भारतीय संस्कृति में ये परंपरा रही है कि शुभ कार्य की शुरुआत मुंह मीठा करके की जाती है। यही कारण है कि देश का बजट पेश करने से पहले और उसकी तैयारियों को लेकर वित्त मंत्रालय में हलवा सेरेमनी का आयोजन किया जाता है। हलवा सेरेमनी का आयोजन संसद भवन में हर साल बजट के पहले किया जाता है।

हलवा बनाने की रस्म काफी पहले से ही चली आ रही है। इस दौरान बड़ी सी कड़ाही में हलवा बनाने की परंपरा है। बड़ी बात यह है कि इस कार्यक्रम में वित्त मंत्री की मौजूदगी में हलवा बनाया जाता है। हलवा सेरेमनी के तहत मौजूदा वित्त मंत्री के द्वारा बजट और उसकी छपाई से जुड़े कर्मचारियों और वित्त अधिकारियों को हलवा बांटा जाता है। यह सांकेतिक प्रक्रिया है, जो इस बात की तरफ इशारा करती है कि अब बजट बनाने का काम अपने अंतिम चरण में पहुंच चुका है। आमतौर पर हलवा सेरेमनी बजट से 10 दिन पहले होती है। हलवा सेरेमनी संपन्न होने के बाद आधिकारिक तौर पर बजट छपाई के लिए भेजा जाता है।

सीक्रेट बजट

देश के बजट की छपाई को बहुत गुप्त रखा जाता है। बजट छपाई को इसलिए गुप्त रखा जाता है क्‍योंकि इससे जुड़ी जानकारियां लीक होने पर कई गंभीर सवाल खड़े हो सकते हैं। बजट के सभी दस्तावेज चुनिंदा अधिकारी ही तैयार करते हैं। इस दौरान इस्तेमाल होने वाले सभी कंप्यूटर्स को दूसरे नेटवर्क से डीलिंक कर दिया जाता है। नॉर्थ ब्लॉक ऑफिस में इस दौरान 100 कर्मचारी काम कर रहे होते हैं, जिन्हें परिवार या दोस्तों से मिलने की इजाजत नहीं होती। संसद में बजट पेश होने के बाद ही ये अधिकारी बाहर आ पाते हैं। चूंकि बजट दस्तावेजों को छापने का काम भी नॉर्थ ब्लॉक में बने छापेखाने में ही किया जाता है, इसलिए कुछ खास अधिकारियों के अलावा यहां किसी को आने की अनुमति नहीं होती है।

New Delhi | PBNS Bureau